ये IAS ऑफिसर की स्टोरी सुनकर आप भी करेंगे सलाम, जहा जाते है वहा बन जाते है लोगों के हीरो…

देश के अधिकांश अधिकारी और नेता घूस लेने में अपनी स्थिति भूल जाते हैं लेकिन कुछ अधिकारी ऐसे भी होते हैं जो अपना काम पूरी ईमानदारी के साथ करते हैं। जिसके कारण सिस्टम में लोगों का विश्वास हमेशा के लिए बना रहता है। आज हम आपको ऐसे ही एक ईमानदार अधिकारी की कहानी बताने रहे हैं। ये ईमानदार IAS अधिकारी का नाम सौरभ जोरवाल है।

2014 बैच के आईएएस अधिकारी सौरभ जोरवाल ने कहा था कि एक किताब की कहानी पढ़ने के बाद उन्हें लगा कि देश में बहुत बदलाव नहीं आया है। जब उन्हें बिहार के पूर्णिया में एसडीए के पद पर नियुक्त किया गया, तो उन्होंने 50 साल पहले और आज की कहानी में एक समानता देखी। इसलिए उन्होंने देश की सेवा के लिए सिविल सेवाओं का विकल्प चुना। उन्होंने साल 2014 में एक अधिकारी बनकर देश की स्थिति को बदलने की कसम खाई थी।

जयपुर में पले-बढ़े सौरभ ने IIT दिल्ली से इंजीनियरिंग की है। पूर्णिया को सौंपे जाने के बाद, उन्होंने वहां अपनी स्थिति बदलने का फैसला किया। उस दौरान उनके पास सिर्फ अनुभव नहीं था। जिस वजह से वह जरूरत पड़ने पर पुराने अधिकारियों की मदद लेता और उनके द्वारा दिए गए निर्देशों को भी लागू करता।

जब वह लोक सेवा आयोग की तैयारी कर रहे थे तब उन्होंने मैला आँचल में फ़र्निशवार नाथ रेणु की कहानी पढ़ी थी। नसीब भी चाहता था कि यह अधिकारी क्षेत्र की दशा और दिशा बदल दे। कहानी उस समय के परिवेश में लिखी गई थी और इतने दशकों के बाद भी, आज के परिवेश में कोई महत्वपूर्ण अंतर नहीं है, इस अधिकारी ने स्थिति को बदलने का संकल्प लिया और इसमें वह सफल हुए।

पूर्णिया के बाद सौरभ बिहार के सहरसा में भी पोस्ट हुए थे। यहां दबाव की समस्या ऐसी थी कि पिछले 33 वर्षों से इसे राहत की सांस नही थी। सब्जी मंडी में साइकिल रखने की जगह नहीं थी। लोग जाम होने की बात स्वीकार कर रहे थे लेकिन उन्हें अपनी दुकान के लिए भी जगह चाहिए थी। जिसकी वजह से सौरभ डी.एम. और स्थानीय प्रणाली की मदद से वहां एक सुपरमार्केट का निर्माण किया गया और दुकानदार खुशी-खुशी वहां शिफ्ट हो गए। स्थानीय लोगों के अनुसार, सौरभ ने सहरसा की छवि को बदल दिया।

सौरभ जोरवाल भी क्षेत्र में शिक्षा के क्षेत्र में काम करना चाहते हैं। उनके अनुसार शिक्षा के क्षेत्र में विकास की काफी संभावनाएं हैं। जो सहरसा के लोगों के लिए एक तह से कम नहीं था। उसे लगा कि माफियाओं ने उसे बदल दिया है। अधिकारी के जाने की खबर से पूरा शहर आंसू बहा रहा था। लोग कह रहे थे कि अगर वे एक साल से ज्यादा समय तक रुकते तो पूरा शहर बदल जाता। उनके स्थानांतरण को रोकने के लिए सोशल मीडिया पर विशेष अभियान भी चलाए गए थे।

वे कहते हैं कि अधिकारी और आम जनता के बीच की खाई को दूर करने की जरूरत है। सौरभ वित्तीय प्रबंधन, जल आपूर्ति, राशन प्रबंधन के लिए विशेष तकनीकों का उपयोग करने के लिए आईआईटी की मदद भी करते है। यह कहा गया है कि यदि अधिकारी अपने अधिकारों को ठीक से समझते हैं, तो उन्हें एक तथ्य बनाने में कोई समस्या नहीं होगी। एक तटस्थ और मेहनती अधिकारी शहर और उसके लोगों के जीवन की तस्वीर बदल सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.