श्रद्धालुओं ने बताया रात 2.45 बजे वैष्णो देवी के दरबार में क्या हुआ की लोग इधर-उधर भागने लगे?

01 जनवरी, जहा दुनिया आने वाले नए साल का स्वागत नई उम्मीदों के साथ कर रही थी, उसी बीच भारत मे न्यू ईयर की रात एक बड़ा और भयानक हादसा हुआ। जम्मू-कश्मीर मे स्थित माता वेषणों देवी के भवन मे भारी भगदड़ की वजह से 12 श्रद्धालुओ की मोत हो गई हे, हालाकी 13 से अधिक लोग घायल हुए हे। ये घटना करीब रात के 2:45 बजे हुई। नए साल के अवसर मे माता के दर्शन के लिए आये श्रद्धालुओ की भारी भीड़ अंदर और बाहर मौजूद थी। हम आपको ये दुखद हादसा हाल बताने जा रहे हे।

अब तक की जानकारी के मुताबीक घटना स्थल पर राहत और बचाव कार्य अभी भी जारी हे, और माता वेषणों देवी की यात्रा को थोड़ी देर रोक दिया गया था। हमे पता चला हे की ये घटना कटरा के बिल्डिंग एरिया मे सुबह 2.45 बजे की हे। ये घटना गेट नंबर तीन के पास हुई थी। नया साल था, बड़ी संख्या मे लोग मंदिर मे जमा हो गए थे।

मध्यप्रदेश के इंदौर मे रहने वाली दीपाली ने बताया की यह सब उनकी आखों के सामने हुआ था। वह बहुत ही भयानक मंजर था, वह बहुत ही दर गई थी। दीपाली ने बताया, मेने अपने पति को तुरंत नीचे चलने को कहा लेकिन फिर भी उन्होंने मेरी बात नई सुनी और आगे बढ़ते गए, और कोई पुलिस प्रक्षाशन भी तैनात नहीं था।

इस पर सब सवाल उठ रहे हे की, वहा पर पुलिस क्या कर रही थी। हालाकी पुलिस ने बताया की भवन क्षेत्र मे दर्शन के लिए आए कुछ लोगों मे कहासुनी हो गई। देखते ही, स्थिति बिगड़ गई और भगदड़ मच गई। एक चश्मदीद ने बताया की कुछ लोग वहा पे दर्शन करके रुक गए, जिससे भीड़ जमा हो गई और बहार निकलने के लिए जगा नई मिली।

एक परिवार का कहना हे की भगदड़ मे उन्होंने अपने एक परिचित को भी खो दिया, और एक फेमिली मेंबर के हाथ मे फ्रेक्चर हो गया। अभितक कुछ घायलों की पुष्टि नहीं हुई हे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना पर दुख जताया और मृतकों के परिवार को दो लाख रुपए और घायलो को 50-50 हजार रुपए का मुआवजा दिया।

एलजी मनोज सीनहा ने ईस घटना को दुखद बताया हे। उस घटना मरे गए परिजनों को 10 लाख रुपए और घायलों को 2 लाख रुपए देने की घोषणा की। अभी तक 8 मृतकों की पहचान हो चुकी के। मृतकों के नाम ईस प्रकार हे- धीरज कुमार, विनय कुमार, सोनू पांडे, ममता धर्मवीर, और इस हादसे पर की राजनेताओ ने भी दुख जताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *