सरकार की इस स्कीम मे जमा कीजिए रोजाना 7 रुपये, पाइए हर महीने 5000 रुपये की पेंशन…

भविष्य को सुरक्षित करने के लिए निवेश करना एक अच्छी आदत है लेकिन किसी भी जगह निवेश से पहले उसकी पूरी जानकारी लेना जरूरी है। अटल पेंशन योजना वर्ष 2015 में शुरू तो असंगठित क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों के लिए की गई थी। लेकिन इस योजना में 18 से 40 वर्ष की कोई भी भारतीय नागरिक निवेश कर पेंशन का लाभ उठा सकते हैं। जिनके पास बैंक या पोस्ट ऑफिस में अकाउंट है। वहीं इस योजना में 50 साल के बाद जमाकर्ताओं को पेंशन मिलना शुरू होती है।

इस पेंशन योजना के लिए अगर आप रजिस्ट्रेशन कराना चाहते हैं तो आपके पास सेविंग्स अकाउंट, आधार नंबर और एक मोबाइल नंबर होना चाहिए। इस योजना के तहत कम से कम 1,000 रुपये, 2000 रुपये, 3000 रुपये, 4000 रुपये और अधिक से अधिक से 5,000 रुपये मासिक पेंशन मिल सकती है। इस पेंशन स्कीम में आपके द्वारा किए गए निवेश आपकी उम्र पर निर्भर करती है।

मौजूदा वित्त वर्ष 2021-22 में 24 जनवरी तक इससे 71 लाख से अधिक सब्सक्राइबर्स जुड़े हे। जबकि करीब पांच साल पहले वित्त वर्ष 2016-17 में इससे महज 23.99 लाख लोग जुड़े थे। पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक 21 जनवरी 2022 तक एपीवाई के तहत 71,06,743 सब्सक्राइबर्स जुड़े। वहीं महामारी के दौरान एपीवाई से जुड़ने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ।

यह योजना गरीबों, समाज के निचले तबकों और असंगठित क्षेत्रों के मजदूरों समेत सभी भारतीयों के लिए यूनिवर्सल सोशल सिक्योरिटी सिस्टम के तौर पर 9 मई 2015 को लॉन्च की गई थी। इस योजना के तहत 18-40 वर्ष की उम्र के सभी भारतीय नागरिक निवेश कर सकते हैं जिनका किसी बैंक या पोस्टऑफिस में बचत खाता है। इस योजना के तहत पांच पेंशन स्लैब हैं- एक हजार रुपये, दो हजार रुपये, तीन हजार रुपये, चार हजार रुपये और पांच हजार रुपये। सब्सक्राइबर के 60 वर्ष का होने पर सरकार उन्हें चुने गए पेंशन स्लैब के हिसाब से उसे पेंशन देती है। सब्सक्राइबर की मौत होने पर नॉमिनी को पेंशन राशि दी जाती है। वहीं इस योजना के तहत कम से कम 20 साल का निवेश करना होता है।

कम उम्र में योजना का हिस्सा लेने पर कम राशि में ही पांच हजार रुपये तक की पेंशन सुनिश्चित कर सकते हैं। इसे ऐसे समझ सकते हैं कि अगर आप 18 वर्ष की उम्र में योजना का हिस्सा लेते हैं तो हर दिन महज 7 रुपये की बचत करके 60 वर्ष का होने पर 5 हजार रुपये की पेंशन सुनिश्चित कर सकते हैं जबकि 40 वर्ष की उम्र में एपीवाई के तहत हर दिन कम से कम 145.40 रुपये की बचत करनी होगी और 18 वर्ष की उम्र में योजना का हिस्सा बनने पर 42 साल में 105840 रुपये (210 रुपये महीना) का योगदान करना होगा जबकि 40 वर्ष की उम्र में योजना का हिस्सा बनने पर 348960 (1454 रुपये महीना) का योगदान करना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.