रूस-यूक्रेन युद्ध: भारत में महंगाई के लिए तैयार रहें, एक झटके में दाम दोगुने हो जाएंगे…

यूक्रेन(Ukraine) और रूस के बीच चल रहे युद्ध(War) की बुरी छाया भी भारत(India) पर पड़ती हुई दिखाई दे रही है। अंतरराष्ट्रीय बाजार(International Market) में जहां क्रूड(Petrol) का दाम 101 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गया है। इसके 110 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंचने की उम्मीद है, जिससे संकट एक ही समय में गहराता जा रहा है। इसका असर पेट्रोल और डीजल(Deseal) की कीमतों पर देखने को मिल सकता है। सौभाग्य से, भारत में चुनाव हैं और कीमतें स्थिर हैं। मेरा विश्वास करो, सभी गोला बारूद मार्च में मुद्रास्फीति बम विस्फोट करने के लिए तैयार है।

क्रूड की तरह गैस भी संकट के बाद मार रही है। पेट्रोल डीजल की तरह गैस भी आपकी जेब खराब करने की तैयारी कर रही है। कोरोना संकट के बाद जहां 2021 से गैस की मांग बढ़ रही है, वहीं उत्पादन बेहद सुस्त है। वहीं यूक्रेन संकट के बीच दुनिया के सबसे बड़े गैस सेंटर ने रूस को सुर्खियों में ला दिया है। यूरोप से लेकर अमेरिका तक गैस(Gas) संकट से डरते हैं। भारत में भी अब माना जा रहा है कि अप्रैल से कीमतें दोगुनी हो जाएंगी।

देश में गैस की कीमत दोगुनी हो सकती है। इससे घरेलू गैस सिलेंडर के साथ ही सीएनजी और पीएनजी की कीमतों पर भी असर पड़ेगा। वहीं बिजली और खाद पर सब्सिडी का खर्च भी सरकार की बैलेंस शीट को बिगाड़ सकता है। ऐसे में सरकार के पास ऐसा करने का एक ही तरीका होगा कि आप पर टैक्स बढ़ाए। बाजार विशेषज्ञों के अनुसार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गैस की कीमतों में छोटे बदलाव आपकी जेब पर बड़ा प्रभाव डाल सकते हैं।

अप्रैल का महीना दुनिया भर में गैस की भारी कमी के कारण भारत में मुद्रास्फीति ला सकता है। सरकार हर साल अप्रैल और अक्टूबर में प्राकृतिक गैस की कीमतें तय करती है। अप्रैल की कीमत जनवरी से दिसंबर 2021 के अंतरराष्ट्रीय मूल्यों पर आधारित होगी। ऐसे में सरकार से उम्मीद की जा रही है कि वह प्राकृतिक गैस के घरेलू दामों में बदलाव करेगी। उद्योग के विशेषज्ञों और विश्लेषकों का कहना है कि इसे $ 2.9 से $ 6-7 तक बढ़ाया जा सकता है। रिलायंस इंडस्ट्रीज का कहना है कि डीप सी गैस की कीमत 6.13 डॉलर से बढ़कर करीब 10 डॉलर हो जाएगी।

यदि घरेलू प्राकृतिक गैस के मूल्य में एक डॉलर की वृद्धि की जाती है, तो सीएनजी के मूल्य में 10,000 रुपये की वृद्धि की जाएगी। इसमें 4.5 की वृद्धि होगी। इसका मतलब है कि सीएनजी(CNG) की कीमत में 15 रुपये प्रति किलो की बढ़ोतरी की जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.