राजनीति का लोहा माने जानेवाले राजनीति के चाणक्य, जिंदगी मे कई उतार चढ़ाव के बाद पहुचे हे इस मुकाम तक…

अमित शाह का जन्मदिन 22 अक्टूबर 1964 को मुंबई में हुआ। एक संपन्न गुजराती जैन परिवार में जन्मे अमित शाह के पिता का नाम अनिलचन्द्र शाह और माता का नाम कुसुमबा है। अमित शाह की पत्नी का नाम सोनल शाह है। 23 वर्ष की उम्र में अमित शाह का विवाह दिसंबर 1987 में सोनल शाह के साथ हुआ था। अमित शाह के बेटे का नाम जय शाह और बहू हर्षिता शाह हैं। जय शाह एक बिजनसमैन हैं।

अमित 16 साल की उम्र तक गुजरात में अपने गाँव मानसा में रहे और शुरुआती पढाई की। इसके बाद उनका परिवार अहमदाबाद आ गया। अमित शाह ने बायोकेमिस्ट्री में B.SC. डिग्री हासिल की है। राजनीति में आने से पहले अमित शाह पीवीसी पाइप का बिज़नस करते थे। इसके अलावा अमित शाह एक स्टॉक ब्रोकर भी रह चुके हैं।

अमित शाह और नरेंद्र मोदी का साथ 1982 से है, जब दोनों राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े हुए थे। उस समय अमित शाह की उम्र 17-18 वर्ष और नरेन्द्र मोदी 30 वर्ष के थे। सन 1984-85 में अमित शाह भाजपा पार्टी के सदस्य बने. अमित शाह ने भाजपा के लिए सबसे पहला काम नारणपुरा, अहमदाबाद में पोलिंग एजेंट के रूप में किया। बाद में वो नारणपुरा वार्ड के सेक्रेटरी भी बने। अमित शाह ने सन 1989 से लेकर आज तक 42 से अधिक छोटे-बड़े चुनाव लड़े, जिनमें एक में भी वो नहीं हारे।

अमित शाह कई विवादों मे भी घिर चुके हे: 2010 में उन्हें हत्या और जबरन वसूली जैसे आरोपों के लिए गिरफ्तार किया गया, और जिसकी वजह से उनके गुजरात के मुख्यमंत्री बनने की संभावना ख़तम हो गई। उनके गुजरात में प्रवेश पर भी रोक लगा दी गई। लेकिन 2012 में उन्हें सर्वोच्च न्यायालय ने गुजरात में प्रवेश करने की अनुमति दे दी।उनके ऊपर फर्जी एनकाउंटर मामले के आरोप भी लाग चुके हैं। सोहराबुद्दीन शेख, उनकी पत्नी कौसर बी और उनके दोस्त तुलसीराम प्रजापति की हत्याओं में भी अमित शाह आरोपित रहे हैं। सीबीआई ने कहा कि दो राजस्थानी व्यवसायियों ने सोहराबुद्दीन से छुटकारा पाने के लिए अमित शाह को भुगतान किया था।

वर्ष 2002 के गुजरात दंगों के दौरान सबूतों को नष्ट करने और और गवाहों को प्रभावित करने का आरोप भी अमित शाह पर लगा। इशरत जहां फर्जी एनकाउंटर मामले में अमित शाह का नाम आया उनके ऊपर आरोप था की उन्होंने गैर क़ानूनी तरीके से एक महिला की जासूसी करवाई।

54 वर्षीय अमित शाह अपनी सफलता का कारण अपने दृढ़निश्चयी स्वभाव को मानते हैं। अमित शाह जिस भी क्षेत्र में हाथ डालते हैं, जीत कर ही दम लेते हैं। जहाँ एक ओर नरेन्द्र मोदी सीधी बात करने वाले आदमी माने जाते हैं। अमित शाह के मनोभाव शायद ही कोई समझ पाता है। अहमदाबाद के कई प्रतिष्ठित मुस्लिम परिवारों से अमित शाह का अच्छा सम्बन्ध है। कई मुस्लिम उनके करीबी मित्र हैं, पर वो सार्वजनिक रूप से इसकी चर्चा नहीं करते।

10 करोड़ से ज्यादा सदस्यों वाली दुनिया की सबसे बड़ी राजनैतिक पार्टी BJP की वर्तमान सफलता के पीछे अमित शाह की कुशल दूरदृष्टि और कड़ी मेहनत है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.