अब बंदर भी चला सकेगा फोन, इंसान के दिमाग में चिप लगाने की तैयारी में जुटे अरबपति एलन मस्‍क…

दुनिया के सबसे अमीर इंसान एलन मस्‍क की कंपनी न्‍यूरालिंक जल्‍द ही दिमागी चिप का इंसानी परीक्षण शुरू करने की तैयारी कर रहा है। मस्‍क ने साल 2016 में इस स्‍टार्टअप की सहस्‍थापना की थी। इस चिप को पेजर नाम के बंदर और एक सूअर के अंदर पहले ही लगाया जा चुका है और यह काम भी कर रहा है। मस्‍क का बताया है कि इस चिप की मदद से पैरालसिस का शिकार इंसानभी चल सकेगा। ओर अपने दिमाग से उंगलियों से ज्‍यादा तेज गति से स्‍मार्टफोन चला सकेगा।

यह स्‍टार्टअप अब क्लिनिकल ट्रायल की तैयारी कर रहा है ताकि इस तकनीक का इस्‍तेमाल इंसानों के ऊपर क‍िया जा सके। विज्ञापन में कहा गया है कि क्लिनिकल ट्रायल का डायरेक्‍टर होने के नाते आपको सबसे प्रतिभावान डॉक्‍टरों, शीर्ष इंजीनियरों और न्‍यूरालिंक के पहले क्लिनिकल ट्रायल में शामिल इंसानों के साथ आपको क्या करना होगा।

मस्क ने इस स्टार्टअप को 2016 में सैन फ्रांसिस्को बे एरिया में शुरू किया था। इस परियोजना से मस्क का दीर्घकालीन लक्ष्य मनुष्यों और कृत्रिम बुद्धिमत्ता (ऑर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) के बीच के संबंधों का पता लगाना है। एलन मस्‍क दुनिया के सबसे अमीर इंसान हैं और एक अनुमान के मुताबिक उनके पास 256 अरब डॉलर की दौलत है।

पिछले महीने मस्‍क ने उम्‍मीद जताई थी कि इस तकनीक की मदद से वे लोग फिर से चल सकेंगे जो बीमारी की वजह से चल नहीं पाते हैं। मस्क ने यह भी ऐलान किया है कि इस साल के अंत तक इंसानी दिमाग में कंप्यूटर चिप लगाने की योजना को शुरू कर दिया जाएगा। मस्क ने कहा कि अगर सबकुछ सही रहता है तो न्यूरालिंक के नाम से शुरू किए गए ब्रेन कंप्यूटर इंटरफेस स्टार्टअप का इंसानी टेस्ट यानी ह्यूमन ट्रायल इस साल के अंत तक शुरू कर दिया जाएगा।

इसके जरिए अल्जाइमर, डिमेंशिया और रीढ़ की हड्डी की चोटों जैसे न्यूरोलॉजिकल समस्याओं का इलाज करने में मदद करने के लिए मानव मस्तिष्क में एक कंप्यूटर इंटरफ़ेस को प्रत्यारोपित करने का लक्ष्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.