62 साल की अनपढ़ नवलबेन दूध बेचकर कमाती हैं करोड़ों रुपये, कमाई का आंकड़ा जानकर हैरान रह जाएंगे आप

दोस्तों जैसा कि आप जानते हैं कि पशुपालन को भी गुजरात का पहला मेंइन व्यवसाय कहा जाता था। क्योंकि खेती के साथ-साथ अन्य उद्योगों में पशुधन का बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान है। फिर आपको यह बताते हुए खुशी हो रही है कि पशुपालन के इस धंधे में गुजरात की एक महिला ने दूध 1 करोड़ 10 लाख रुपए में बेचा है और हर महीने 3.50 लाख रुपये कमाती हैं।

गुजरात के बनासकांठा जिले के नगाना गांव की एक अशिक्षित महिला को दूध में श्वेत क्रांति लाने के लिए काम करते हुए दिखाया गया है। इस महिला ने 2020 में 1 करोड़ 10 लाख रुपये का दूध बांटकर कीर्तिमान स्थापित किया है। दूध बेचकर महिला को हर महीने 3.50 लाख रुपये का मुनाफा हुआ है। उन्होंने साल 2021 में भी इस सफलता को हासिल करने का भरोसा दिखाया है।

इस बारे में और जानने के लिए वडगाम जिले के नगाना गांव के रहने वाले 62 साल के हैं. नवलबेन दलसांगभाई चौधरी के गांव में एक डेयरी है। वह कहते हैं, ‘मेरे 4 बेटे हैं जो पढ़ लिखकर शहर में काम करते हैं, और मैं यहां 80 भैंस और 45 गायों के साथ एक डेयरी चलाती हूं।

आपको यह भी बता दें कि नवलबेन को 2 लक्ष्मी पुरस्कार और 3 सर्वश्रेष्ठ पशुचारक पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। मुख्यमंत्री ने गांधीनगर में उन्हें पुरस्कार प्रदान किया था।

नवलबेन की डेयरी में 11 लोको को रोजगार मिल रहा है जो पशु की देखभाल भी करते हैं और उनका दूध भी निकालते हैं। नवलबेन मजदूरों के साथ-साथ रोज सुबह-शाम दूध निकालती हैं।

इस प्रकार नवलबेन ने कड़ी मेहनत से खुद को साबित कर दिया है कि एक महिला जो चाहे कर सकती है और उसे किसी पर निर्भर नहीं रहना पड़ता है और वह अपना घर भी बचा सकती है और साथ ही जीवन यापन कर सकती है। आज के समय में आत्मनिर्भर होना बहुत जरूरी है।खासकर उन अशिक्षित महिलाओं के लिए नवलबेन प्रेरक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.