हमारा मकसद भारतीय वाहन उद्योग को इलेक्ट्रिक वाहनों के निर्यात के लिहाज से पांच साल में दुनिया में शीर्ष स्थान पर लाना है। – नितिन गडकरी

गडकरी ने कहा की भारत का भविष्य बहुत उज्ज्वल है। इस समय हमारे वाहन उद्योग का कारोबार 7.5 लाख करोड़ रुपये है। पांच साल के भीतर यह 15 लाख करोड़ से अधिक हो जाएगा और यह उद्योग सबसे ज्यादा रोजगार, निर्यात, राज्य तथा केंद्र सरकार के लिए राजस्व सृजित कर रहा हे। केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने शुक्रवार को कहा कि उनका मकसद भारतीय वाहन उद्योग को इलेक्ट्रिक वाहनों के निर्यात के लिहाज से पांच साल में दुनिया में शीर्ष स्थान पर लाना है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमारा उद्देश्य निर्यात बढ़ाना, आयात कम करना है और साथ ही हम पर्यावरण के बारे में भी सतर्क हैं।’’  उन्होंने अनंतकुमार स्मृति व्याख्यान के पहले संस्करण में वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये कहा कि उनका दृष्टिकोण और प्रतिबद्धता पांच वर्षों में इलेक्ट्रिक कार, स्कूटर, बस, ऑटोरिक्शा और ट्रकों के निर्यात के लिए भारतीय वाहन उद्योग को दुनिया में शीर्ष देश बनाने की है।

सरकार कच्चे तेल की कीमतों में अनिश्चितता को देखते हुए महंगे पेट्रोल और डीजल पर निर्भरता कम कर रही है। इसके लिये नीतियों में इस तरह के बदलाव किये जा रहे हैं जिससे देश में इलेक्ट्रिक वाहनों की संख्या बढ़े। उन्होंने कहा, ’’हम पेट्रोल और डीजल की आवश्यकता का 80 प्रतिशत आयात करते है। हम आठ लाख करोड़ रुपये के पेट्रोल और डीजल का आयात करते हैं।

एक पेट्रोल कार की ईंधन लागत एक महीने में 12,000-15,000 रुपये के आसपास लेकिन इलेक्ट्रिक वाहन के मामले में यह 2,000 रुपये होगी। वकेन्द्रीय मंत्री ने कहा था कि केंद्र सरकार देश में बिजली से चलने वाले इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) की बिक्री बढ़ाने की दिशा में लगातार काम कर रही है

Leave a Reply

Your email address will not be published.