गुजरात का आलीशान गांव, गांव के 400 घरों में से एक भी घर एसा नहीं हे जिनका विदेश में कोई सदस्य न हो…

दक्षिण गुजरात में NRI के गांव के रूप में जाना जाता है, इसे गुजरात का पेरिस भी कहा जाता है। गांव के 400 में से एक भी घर में ऐसा कोई सदस्य नहीं है जो विदेश में न हो। 200 घरों को तो ताले ही रहेते हैं। यूएसए, कनाडा। और यूके में, अकेले इस गांव की आबादी 3000 से अधिक लोगों की है।

इसलिए अगर गांव में कोई विकास कार्य होता है तो विदेश में स्थापित अनावला इंटरनेशनल एसोसिएशन को प्रस्ताव सौंपते ही एक ही दानदाता करोड़ों रुपये देने को तैयार रहता है। अब तक ऐसे दानदाताओं ने गांव की सुविधा के लिए करोड़ों रुपये दिए हैं। गांव के प्राथमिक सुविधा कार्यों का भी महत्वपूर्ण योगदान है।

वर्तमान में गांव के एनआरआई डोनर ने गांव में चारोतारिया पाटीदार समाज के नाम से एक सांस्कृतिक हॉल बनाने के लिए 1.75 करोड़ रुपये दिए हैं। 150 से अधिक एनआरआईओ की मौजूदगी के बीच शनिवार को उद्घाटन हुआ।

एमो ने 1984 में एनावावा इंटरनेशनल एसोसिएशन की स्थापना की। यदि गांव में किसी सुविधा का विकास कार्य हो तो प्रस्ताव रखा जाता है। कई कामों के लिए पूरी निजी मदद देने का भी फैसला किया गया है। एमो बनाने का मुख्य कारण यह है कि विदेशों में रहने वाले अन्य लोग भी अपने गांव को कोई गांव के लिए प्रेरणा बनने में मदद कर सकते हैं। “हम अपनी मातृभूमि के लिए बहुत भावुक हैं और गाँव के लोग बहुत सम्मानित हैं और हम गाँव में विकास कार्यों में मदद करने के लिए हमेशा उत्साहित रहते हैं,” नानुभाई करभाई पटेल, चेरमेन, एनावाला इंटरनेशनल एसोसिएशन, यूएसए ने कहा।

50 हेक्टेर क्षेत्र में फैले गांव के एनआरआई भी गांव के विकास के लिए विदेश से धन इकट्ठा करते हैं। नवरात्रि भी इस गांव का एक विशेष आकर्षण है जिसमें मुख्य रूप से पटेल, हलपति, अहीर, मायावासी समुदाय की आबादी है। एनआरआई द्वारा आयोजित नवरात्रि का आनंद लेने के लिए चारों ओर से लोग यहां आते हैं। इतना ही नहीं उनके गांव की चौड़ी पक्की सड़कें और बंगले किसी को भी शहर की याद दिलाने पर मजबूर कर देते हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन जैसे देशों में बसे एनआरआई हमेशा गांव के विकास में मदद करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.