सालाना 300 करोड़ कमाई करते है तो भी पेड़ो को खुद देते है पानी, जानिए इस शख्स के बारे में…

अगर आप पर्यावरण को बचाने के जुनून की हद जानना चाहते हैं, तो देश के अग्रणी ब्रांड कायम चूर्ण के व्यवसायी देवेनभाई सेठ के बारे में जानना चाहिए। जीना सालाना टर्नओवर 300 करोड़ से अधिक है। भावनगर को बेंगलुरू जैसा हरा-भरा शहर बनाने के लिए वह पिछले 10 साल से पेड़ों के लिए अभियान चला रहे हैं।

अब तक अकेले देवेनभाई ने भावेना कस्बे को 10,000 पेड़ उपहार में दिए हैं। गुजरात के गांधीनगर के बाद भावनगर शहर ने इसे हरित शहर बनाने में बहुत योगदान दिया है।

विश्व पर्यावरण दिवस के शुभ अवसर पर उन्होंने कहा कि अभियान के बीज उनके दिमाग में बेंगलुरु शहर की यात्रा के दौरान लगाए गए थे। उस शहर को देखकर मनोमन ने निश्चय किया था कि मैं अपने शहर को भी इतना हरा-भरा बनाऊंगा। उस समय भावनगर निगम द्वारा जब 1111 नीम के पेड़ लगाए गए और उनकी सुध नहीं ली गई तो जीवन तबाह हो गया और इसकी लौ ने शहर को पर्यावरण का सच्चा मित्र बना दिया। आज दस साल में वह जोश कम नहीं हुआ है।

इससे पहले वह अपनी एसयूवी जाइलो में 40-40 बड़ी बोतले लेकर जाते थे और अपने लगाए पेड़ों को सींचते थे। तब से इसने 40 बोतल खो दिए हैं और आज विशेष पेड़ों की रक्षा के लिए एक छोटा हाथी टेम्पो स्थापित किया गया है। इसमें 1500 लीटर पानी का सिंटेक्स टैंक है।

पर्यावरणविद देवेनभाई सेठ रोज सुबह 4 बजे उठते हैं, 1 घंटे योग प्राणायाम करते हैं, सुबह 5 से 8 छोटे हाथी टेंपो लेते हैं और पेड़ों को पानी देने निकल पड़ते हैं। वह अपने एक हाथ में स्टीयरिंग व्हील और दूसरे हाथ से पानी की नोक से पानी पिलाते है।

5 जून हर साल पर्यावरण दिवस होता है, लेकिन देवेनभाई सेठ जैसे पर्यावरणविदों के लिए हर दिन एक पर्यावरण दिवस है और उनके जैसे लोगों की वजह से ही दुनिया का पर्यावरण आज भी जीवित है, इसमें कोई दो राय नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.