कभी लारी चलाकर करता था गुजारा, लेकिन आज बन गया है लाखो लोगो की दिल की धड़कन, जानिए लोकप्रिय जज धर्मेश के संघर्ष की कहानी….

डांसर, कोरियोग्राफर और अभिनेता धर्मेश येलांडे के मुताबिक 19 साल की उम्र में आर्थिक तंगी के कारण उन्हें चपरासी के रूप में काम करने के लिए अपना कॉलेज छोड़ना पड़ा था। इतना ही नहीं उनके पिता आज भी चाय की दुकान चलाते हैं। डांस इंडिया डांस के दूसरे सीजन में बतौर कंटेस्टेंट नजर आ रहे धर्मेश एक इंटरव्यू में अपने संघर्ष के बारे में बात कर रहे थे।

धर्मेश ने ह्यूमन्स ऑफ बॉम्बे को बताया, “जब नगरपालिका ने पापा की दुकान को सिल कर दिया तो हमारा जीवन खराब हो गया था। इसलिए उन्होंने एक चाय की दुकान खोली और रोजाना 50 से 60 रुपये कमाने लगे। धर्मेश का चार लोगों के परिवार था, उनका पेट पालना मुश्किल था। लेकिन उनके पापा हमेशा कहते थे- पढ़ाई कभी मत छोड़ना।

धर्मेश के अनुसार आर्थिक तंगी के बावजूद उनके पिता ने उनकी प्रतिभा को ध्यान में रखकर उन्हें नृत्य कक्षाओं में भेजना शुरु कर दिया था। धर्मेश कहता है मैं 19 साल का था जब मैंने कॉलेज छोड़ दिया। मैंने चपरासी का काम करना शुरू किया और बच्चों को डांस सिखाया। मैं 1600 रुपये महीने कमा रहा था। जिसके बाद मैं डांस प्रैक्टिस के लिए गई। लेकिन जैसे ही मैं सीनियर बैच में पहुंचा, मैंने नौकरी छोड़ दी और हर समय डांस देना शुरू कर दिया। फिर मैंने एक फिल्म के सेट पर बैकग्राउंड डांसर के तौर पर काम किया।

धर्मेश अपना सपना पूरा करने मुंबई आए थे। उन्होंने डांस रियलिटी शो बूगी वूगी जीता, जिसे पुरस्कार राशि में पांच लाख रुपये मिले। लेकिन जब दो साल बाद पैसे खत्म हो गए, तो वे घर लौट आए। कुछ महीने बाद उन्होंने डांस इंडिया डांस के लिए ऑडिशन दिया। वह यह ट्रॉफी नहीं जीत सके लेकिन रातोंरात वह इतने लोकप्रिय हो गए कि उन्हें कोरियोग्राफी और डांस शो में अतिथि भूमिका की पेशकश की गई।

धर्मेश का अभिनेता बनने का सपना रेमो डिसूजा की फिल्म ‘एबीसीडी: एनी बॉडी कैन डांस’ से साकार हुआ। जो बॉक्स ऑफिस पर स्लीपर हिट साबित हुई थी। वे कहते है की मैने परिवार के लिए एक घर खरीदा है। लेकिन पापा आज भी वहीं चाय की दुकान चलाते हैं। मैंने उनसे कहा कि तुम्हें अब और काम नहीं करना है। लेकिन उन्होंने दुकान बंद करने से मना कर दिया। मुझे लगता है कि मैंने कभी हार न मानने का उनका रवैया अपनाया है। क्योंकि मैंने मुश्किलों में भी हमेशा अपने दिल की सुनी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.