110 साल पुरानी मिस्‍ट्री हुई सॉल्‍व, टाइटैनिक के जुड़ी ये बाते आ गई सामने

हालीवुड की सुपरहिट फिल्‍म टाइटैनिक ने उस डूबे जहाज की कहानी दुनिया की सामने लाई थी जो समुद्र की गहराई में दफन हो गया था। उस समय टाइटैनिक पर सवार 1500 से ज्‍यादा मौतें हुईं थी। इस मूवी मे निकटतम जहाज एसएस कैलिफ़ोर्निया के टेलीग्राफ ऑपरेटर को विलेन की तरह दिखाया गया था। अब 110 बाद इस मिस्‍ट्री से पर्दा हटा है कि आखिरकार उस रात क्‍या हुआ था।

टाइटैनिक की संकट कॉल के समय टेलीग्राफ ऑपरेटर सो रहा था। टाइटैनिक में ज्यादा लोगों के मरने के लिए एसएस कैलिफ़ोर्निया के निकटतम जहाज पर टेलीग्राफ ऑपरेटर सिरिल इवांस को दोषी ठहराया गया था। एक फिल्म इतिहासकार ने बताया कि क्या टाइटैनिक के पीड़ितों को बचाया जा सकता था? इस रहस्य से 110 साल बाद पर्दा हट गया है।

जब 1912 में टाइटैनिक डूब गया तो पास के एकमात्र जहाज एसएस कैलिफ़ोर्निया का वायरलेस ऑपरेटर सो रहा था। लेकिन एक विशेषज्ञ का मानना ​​है कि जहाज पर टेलीग्राफ उपकरण चलाने वाले सिरिल इवांस डूबने वाले पीड़ितों को नहीं बचा सकते थे। सिरिल की इस बात के लिए निंदा की जाती है कि 14 अप्रैल 1912 को रात 11.30 बजे सोने के लि‍ए चला गया था।

टाइटैनिक के हिमखंड से टकराने से कुछ ही मिनट पहले। एक अमेरिकी जांच में बाद में पाया गया कि अगर सिरिल अपनी ड्यूटी पर कुछ और समय रहते तो उनका जहाज यात्र‍ियों की जान बचा सकता था। लेकिन अब यह बात सामने आई है कि सिरिल हर रात इतने समय सोने चले जाते थे। टाइटैनिक आपदा से पहले समुद्री टेलीग्राफ स्टेशनों को 24 घंटे काम करने की कोई आवश्यकता नहीं थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.